Skip to content

हरिया

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

लघु कथा

October 19, 2017

हरिया आज ही कमाये बदे गांव से दिल्ली आवा है।स्टेशन से उतर कर वह सीधा अपने गांव के एक मित्र रामधनी के घर पहुचता है। खाना पीना करने के उपरांत वह दिल्ली घुमने अकेले निकल पड़ता है, कुछ दूर चलने के बाद उसे एक पुलिस चौकी दिखता है, जहाँ बड़े- बड़े एवं साफ अक्षरों में लिखा होता है”दिल्ली पुलिस आपकी सेवा में सदैव तत्पर” क्या हम आपकी सहायता कर सकतेहै?
पढते ही हरिया की बाछें खिल उठती हैं।चौकी पे जाता है और चौकी इंचार्ज से कहता है।……
ये भईया पीयर कमीज…… तु सेवा करे को कहत हौ अउर सहायता भी देत हौ तबो कवनो मिला आत ना है पर परेशान जीन होय।
हम आ गवा हैं हमें पहिले तो जल पीलाय देव अऊर ओकरे बाद दिल्ली घुमाय देव।…
इतना सुनना था कि चौकी इंचार्ज ने वो सेव कीहीस की का बतावें:-उनका पुरा तसरीफ सुजाय दिहीस।तो बोलो बनारसी भैया की
… पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more