हरियाली तीज

शुक्ल पक्ष की तीज यह , लाया सावन मास !
सखियाँ झूला झूलतीं,. ..मन मे भर उल्लास! !

खाने को व्यंजन मिलें ,घर मे कई लजीज !
सावन मे आये सदा ,..जब हरियाली तीज !

सावन के झूले पड़े,…सखियाँ गातीं गीत !
सबके साजन आगये, तुम भी आओ मीत !!
रमेश शर्मा.

Like 1 Comment 0
Views 147

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing