Sep 17, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

हरिगीतिका छन्द

हरिगीतिका छन्द
॰ ॰ ॰ ॰ ॰
बलवान है सुनिए वही जो, सोच का धनवान हो।
जिसको झुका दुनिया न पाये, फर्ज की पहचान हो।
वो धैर्य भी अपना न खोये, जो कभी अपमान हो।
कुछ शान मेँ इतरा न जाये, या कभी सम्मान हो।

– आकाश महेशपुरी

72 Views
Copy link to share
आकाश महेशपुरी
248 Posts · 53.4k Views
Follow 45 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: