हरदम खेल दिखाये

नए ज़िन्दगी देखो हमको हरदम खेल दिखाये
अगर हँसाती हमें कभी तो ये ही हमें रुलाये
एक मदारी है ईश्वर औ हम सब यहाँ जमूरे
डोर उसी के हाथों में वो जैसा हमें नचाये
डॉ अर्चना गुप्ता

Like Comment 0
Views 46

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share