.
Skip to content

हम

Shri Bhagwan Bawwa

Shri Bhagwan Bawwa

गज़ल/गीतिका

December 30, 2016

हमारे जैसा ही होना चाहकर भी, जब हो नही पाते हैं ।
हमारे काम करने के अन्दाज़ से वो लोग जल जाते हैं !
हम तो हमेशा उन ही को गले लगाने की कोशिश करते हैं,
जो हमें परवाना बना कर,खुद शमां बन हमें जलाना चाहते हैं ।

Author
Recommended Posts
मन
मन - पंकज त्रिवेदी ** मन ! ये मन है जो कितना कुछ सोचता है क्या क्या सोचता है और क्या क्या दिखाते हैं हम...... Read more
मेरी और उसकी मोहब्बत
मेरी और उसकी मोहब्बत ★★मेरी और उसकी मोहब्बत★★ मोहब्बत उन्हें भी और मोहब्बत हमें भी थी, मगर हमे उनसे थी और उन्हें किसी और से... Read more
बताये क्या तुम्हें क्या क्या हमारे घर नहीं होता
बताये क्या तुम्हें क्या क्या हमारे घर नहीं होता वो हम जो सोचते है वो यहाँ अक्सर नहीं होता तुम्हें धन-धान्य प्यारा हो हमें माँ-बाप... Read more
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
????? खुद के लिए फैसला लेना, और फिर उसका सम्मान करना, हमें सिखना होगा। जो खुद के लिए नहीं लड़ सकता, उसके लिए कोई भी... Read more