गीत · Reading time: 1 minute

भारत अपना अभिमान

हम हैं भारत के वासी ये अभिमान है
रब के हाथों मिला एक वरदान है

हम बसेंगे विदेशों में जाकर नहीं
हम दिखा देंगे भारत भी लाकर वहीं
दिखता पैसा चमक है वहाँ पर अधिक
है कमाई यहाँ कम मगर मान है
हम हैं भारत के वासी ये अभिमान है

जान से प्यारा जिनको है अपना वतन
ऐसे वीरों शहीदों को शत शत नमन
सोचिये देश से प्रेम कितना इन्हें
जान देना यूँ होता न आसान है
हम हैं भारत के वासी ये अभिमान है

आज रोती है ये देख माँ भारती
व्याभिचारी की होती है अब आरती
राज अब स्वार्थ नफरत का चलने लगा
खो रहा उसके बच्चों का ईमान है
हम हैं भारत के वासी ये अभिमान है

लड़ते हो क्यों यहां धर्म के नाम पर
डाल भी लो नज़र इसके अंजाम पर
चाहें की है दुआ ‘अर्चना ‘या प्रेयर
नाम हैं ये अलग एक भगवान है
हम हैं भारत के वासी ये अभिमान है

18-07-2018
डॉ अर्चना गुप्ता

106 Views
Like
Author
1k Posts · 1.5L Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी तो है लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी, गूँजेगी आवाज" माता- श्रीमती निर्मला अग्रवाल पिता- स्मृति शेष डॉ राजकुमार अग्रवाल शिक्षा-एम०एस०सी०(भौतिक शास्त्र),…
You may also like:
Loading...