हम सब आशावादी है ।

हम सब आशावादी हैं।
गिरगिर कर गिर समतल से,
उठकर चलने के आदी हैं ।
हम सब आशावादी है ।
चोट लगे कांटा लग जाए,
कितनी ठोकर खाएं ।
इरादे मेरे फौलादी हैं।
हम सब आशावादी हैं।
असफल होते तो भाग्य दिखाते।
छींक हुई हम झट रुक जाते।
सम्भलकर चलते मर्यादी हैं ।
हम सब आशावादी है ।
विन्ध्यप्रकाश मिश्र
9198989831 नरई संग्रामगढ प्रतापगढ

Like Comment 0
Views 797

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share