.
Skip to content

हम सबको ही है पता, चुभ जाते हैं शूल

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

कुण्डलिया

February 15, 2017

हम सबको ही है पता, चुभ जाते हैं शूल
लेकिन अक्सर घाव भी,दे जाते हैं फूल
दे जाते हैं फूल, महक के धोखे में गम
दिल को लगती चोट,नहीं कर पाते कुछ हम
तभी अर्चना आँख, खोलकर चलना हमको
खुशबू से पहचान, नहीं सकते हम सबको

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
पुष्प.....
*********************पुष्प*************************** शरणागत हम शूल हुए....फ़िर भी तो इक फूल हुए खुशी-खुशी चुभन सही परहित को हम मशगूल हुए फ़िज़ा सुगन्धित पुलकित भंवरे सबको सुभाष किया... Read more
धोखे जीवन में हमको रुलाते बहुत
धोखे जीवन में हमको रुलाते बहुत पर सबक भी नये ये सिखाते बहुत आज हम पर बुरा वक़्त क्या आ गया फूल भी शूल अपने... Read more
अंग्रेजी में फूल
जिनको चुभते थे कभी, हम भी बनकर शूल ! वही दे रहे आजकल, हमको प्रतिदिन फूल !! उनको कहना ठीक है, ..अंग्रेजी में फूल !... Read more
दर्द जब भी यहाँ रुलाते हैं
दर्द जब भी यहाँ रुलाते हैं आस आँसू हमें बँधाते हैं ये सितारे हमारी' किस्मत के नाच कितना हमें नचाते हैं हम हँसी के हसीन... Read more