.
Skip to content

हम वफ़ादार थे हर हाल वफ़ा करते थे

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

November 21, 2016

काम था उनका जफ़ा करना जफ़ा करते थे
हम वफादार थे हर हाल वफ़ा करते थे

हम जिये कब ऐ सनम बिछर कर पल भर
सांस लेने की फकत रस्म अदा करते थे

अब हमे देख के रास्ते ही बदल लेते है
कल तक मिलने की हमसे जो दुआ करते थे

बंदिशें दुनिया की कब इश्क़ ने मानी यारों
उनसे छुप छुप के बहाने से मिला करते थे

हम तुम्हें सोचते ही रहते थे करवट करवट
और यादों में तेरी आहे भरा करते थे
बबीता अग्रवाल #कँवल

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
||बेवफा इंसान ||
“कैसे करे उम्मीदे वफ़ा हम हर शख्स यहाँ बेवफा होता है होता है जो दिल के पास बहुत खंजर वही चुभोता है, हर दिल बेवफा... Read more
प्यार का रोग ये लगा कब का
प्यार का रोग ये लगा कब का दर्द बदले में भी मिला कब का जिन्दगी समझा था जिसे अपनी छोड़ वो ही हमें गया कब... Read more
दिल को गिरवी दे रखा है
ख़ुद को धोखा देकर रखेगे , कब तक? उस चाँद को दिल मे हम रखेगे, कब तक? जिसको जाना था, न आयेगे वो चले गए... Read more
तेरी हर घड़ी और पल पल में हम हैं
तेरी हर घड़ी और पल पल में हम हैं, तेरी साँस साँस हर धड़कन में हम हैं। तेरे हर मोड़ और हर कदम पे हम... Read more