.
Skip to content

हम बच्चे मस्त कलंदर

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

March 7, 2017

हम बच्चे मस्त कलंदर

एक मुट्ठी में सूरज का गोला
एक में लेकर चाँद सलोना
खेलने निकले हम अम्बर पे
करके सितारों का बिछोना !
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

बिना पंख के हवा में उड़ते
अड़यल तूफानों से लड़ते
बादलो के बिस्तर करके
आता है हमको सोना !
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

बिजलियों की चकाचौंध में
जश्न मनाये अपनी मौज में
बगल में छुपाकर पर्वतो को
मस्ती में खेले पाना-खोना !!
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

समुन्दर भरा अपनी आगोश
लहरो से प्रबल है अपना जोश
बारिश की बूंदो से मोती बना दे
रेत से बनाये अपना घरोंदा !!
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

दिन अपनी आँखों में रहता
रात का जुगनू रोता रहता
शबनम से दीपक जला कर
चमका दे धरती का कोना कोना
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

दरख्तों को भर भुजाओ में
घूम जाये दशो दिशाओ में
पुष्पलता को कंठ सजा के
गुनगुनाये साज सलोना !!
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

हम इस जग के पालनहार
हम ईश्वर का साश्वत रूप है
आने वाले कल ले मुट्ठी में
घूमते है हम जग का कोना कोना
हम बच्चे है मस्त कलंदर, काम है हँसना रोना !!

!

डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
Brijpal Singh लेख Jun 22, 2016
तब हम परेशां थे इस बारिश से.. अब तो रोना है साहब रोना ...... ---------------------- बचपन में जब बारिश का आना कर देता हम बच्चों... Read more
हिन्दी बाल गीत - 01
हिन्दी बाल गीत -०१ . नन्हें - मुन्ने बच्चे हम, पर कितने हैं सच्चे हम, छोटी सी दुनिया हमारी, मम्मी -पापा-दीदी- हम. . कभी करते... Read more
जब हम छोटे-छोटे बच्चे थे।
सभी दोस्तों को बाल दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ ???? चलो फिर से, उन लम्हों को चुनते हैं। जब हम छोटे-छोटे बच्चे थे। हम साथ साथ... Read more
रमेशराज के शिक्षाप्रद बालगीत
|| हमको कहते तितली रानी || -------------------------------------- नाजुक-नाजुक पंख हमारे रंग-विरंगे प्यारे-प्यारे। इन्द्रधनु ष-सी छटा निराली हम डोलें फूलों की डाली। फूलों-सी मुस्कान हमारी हम... Read more