Aug 11, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मुक्तक

????
हम दिवाने हैं,अक्सर तन्हाई से बातें करते हैं।
सारी दुनिया से बेखबर ख्यालों में खोये रहते हैं।
अपने महबूब की याद में ही मर-मर कर जीते हैं –
इस दुनिया का सभी सितम हम तो हँस-हँस कर सहते हैं।
????? —लक्ष्मी सिंह?☺

262 Views
लक्ष्मी सिंह
लक्ष्मी सिंह
826 Posts · 260.5k Views
Follow 44 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: