.
Skip to content

हम तो नादान ही सही

Akib Javed

Akib Javed

कविता

November 13, 2017

कुछ कमी तो नही बातो में
फिर कंयू याद नही करते हो,
रह गयी है क्या कुछ कमी
जो बात नही करते हो,
हम तो नादान ही सही
तुम तो समझदार मालूम लगते हो,
तेरी मुश्कान में एक कशिश
फिर ऐसे कंयू मुह फुलाए फिरते हो,
ये यादे बाते और घनी राते
तेरे बिन सब सूनी लगती हैं,
जो तू है तो वैसी कंयू नही
जैसी ख्यालो में मालूम पड़ती हो,
तुम बिन नही कटती राते
तुम ऐसे कंयू तड़पाती रहती हो,
ए मेरे जोरो ख्याल,कुछ तो याद कर
ऐसे कैसे तड़पती फिरती हो,
हम तो नादान ही सही
तुम तो समझदार मालूम पड़ते हो,
कुछ कमी तो नही बातो में
फिर कंयू याद नही करते हो।।

-आकिब जावेद

Author
Akib Javed
कुछ लिखना चाहता हूँ,सोचता हूँ,शब्दो से खेलता हूँ,सीखता हूँ,लिखता हूँ।।
Recommended Posts
है निवाला सामने पर तू नही
है अधूरी ज़िन्दगी अब लौट आ बिन तुम्हारे क्या ख़ुशी अब लौट आ अब सताऊँगा नही माँ मैं तुम्हें कर रहा मैं वन्दगी अब लौट... Read more
कलमकार है शमसीर नही रखते*
*कलमकार है शमसीर नही रखते* बदल जाये हम ऐसी तासीर नही रखते,, बटुये में हर किसी की तस्वीर नही रखते,, जिसकी रखते है वो तुम... Read more
*यू ही नही किया करते*
*यू ही नही किया करते* यू ही बस बेबजह इल्जाम नही लगाया करते,,, बफादार को बेबफा कहकर नही बुलाया करते,,, हक्कीकत से जब रूबरू ही... Read more
ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था ।
ग़ज़ल ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था । ख़ुदी को प्यार मे झोंका नही था । सही है जख़्म भी खाया नही था ।।... Read more