हम खरी खरी बोले हैं

*मुक्तक*
मन में कपट हाथ में औषधि, आडंबर के चोले हैं।
बात कहाँ पक्की करते वे , बार – बार ही डोले हैं।
घर जाकर फटकार दिया यदि, दिखा दिया दर्पण उनको।
इसमें कौन बुराई है हम, खरी – खरी ही बोले हैं।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

10 Views
Copy link to share
#26 Trending Author
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078 View full profile
You may also like: