.
Skip to content

!! हम आपको प्यार से सलाम करते हैं !!

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

कविता

April 28, 2017

नफरत के काबिल समझते हो तो नफरत करो
गर प्यार के काबिल समझते हो प्यार करो
हमने अपनी तो फितरत ही कुछ ऐसी बना रखी है कि
जो हम से नफरत करता है, हम उनसे प्यार करते हैं !!

कह देगा अलफ़ाज़ बुरे भले तो क्या फर्क पड़ेगा
अपना खून उबाल कर अपना ही नुक्सान करेगा
पैरवी तो हम को किसी की करनी आती नहीं ऐ दोस्त
आ जाती तो दुनिया के महान जज ही न बन जाते !!

आके हमारे पास दिखा जाना बेशक अपना रौद्र रूप
हम ने तो प्यार के वार से सब को हराया हुआ है
जिस ने भी नफरत के बीज बो बोकर फसल पैदा की थी
उस को अपने प्यार के पानी से ही लहराया हुआ है !!

दुश्मन के मन में घुस कर अपने जज्बे को सलाम करते हैं
काट देते हैं अपने प्यार की दरांती से फनाह करती हुई
उस घास को, जो घुस के हम को भी नुक्सान करती है !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
प्रेम
फिर आई रात सुहानी फिर नया गीत गुनगुनायेंगे बिखर गया ज़माने के सितम से फिर से उसे बसायेंग नफरत की आंधिया ले उड़ी जिसे प्यार... Read more
हमसे कभी जब  बात वो  दो चार करेंगे
हमसे कभी जब बात वो दो चार करेंगे हम प्यार का अपने तभी इजहार करेंगे नफरत से भरी ज़िन्दगी सुनसान बहुत है हम फूल खिला... Read more
शमअ प्यार का तुम जलाया करो
तिरगी का बहाना न बनाया करो शमअ प्यार का तुम जलाया करो हसरतें दिल में ना छिपाया करो प्यार की राह में गुल खिलाया करो... Read more
काबिल है हम दोनों के....
बेपनाह मोहब्बत कीजिए या नफ़रत काबिल है हम दोनों के ऐ मेरे दोस्त, नजरिया आपका अपना है विश्वास न तोड़ना ऐ मेरे दोस्त हमें धोखे... Read more