Skip to content

हमें क्या?

पं.संजीव शुक्ल सचिन

पं.संजीव शुक्ल सचिन

लघु कथा

September 9, 2017

अलसाई आखों से आसमान को निहारते हुये छत की मुंडेर पर बैठे- बैठे बस एक ही बात सोचे जा रहा था;
आखिर कब अंत होगा इस नामुराद आतंकवाद का ,
तभी पडो़स वाले जुम्मन चाचा आकर नीचे से आवाज देने लगे , कहाँ हो शुक्ला जी
उनकी आवाज मेरे कानों तक पहुँची, सोचों की तंद्रा टूटी और मैं बोझिल कदमों से चलता हुआ नीचे आया।
हाँ चाचा क्या बात हुई ; कैसे आना हुआ?
जुम्मन चाचा बोले भई कल ईद है आपको मेरे घर आना हैं।
मैंने कहा; ठीक है चाचा देखेंगे अगर समय अनुकूल रहा तो अवश्य हीं उपस्थित होऊंगा। चाचा मेरे जवाब और चेहरे के हाव- भाव से विचलित होकर बोले
शुक्ला जी क्या बात है आज बड़े ही गमगीन दिख रहे हो ऐसा क्या हो गया
उनका हृदय किसी अनिष्ठ की आसका से ग्रसित हो उठा।
मैने कहाँ चाचा समझ नहीं आ रहा यह आतंकवाद आखिर कभी खत्म भी होगा या नहीं।
जुम्मन चाचा ने कोई जवाब नहीं दिया वश मेरे तरफ देखते रहे और बोले-
आप भी क्या- क्या सोचते रहते हो
यह सोचना हमारा काम थोड़े ही न है देश में सरकार है, सीमा पर सैनिक हैं, हर राज्य में अपनी पुलिस है, कई एक सुरक्षा एजेंसीयाँ हैं , यह उनका काम है उन्हें सोचने दो अपना बहुमूल्य समय क्यों बरबाद करना।
मैं और परेशान हो उठा क्या जो बातें जुम्मन चाचा ने कहीं वह सही है;
हमें केवल अपनी हीं चिंता होनी चाहिए?
समाज में, देश में, दुनिया में जो कुछ भी घटित हो रहा है उससे हमारा कोई सरोकार नहीं।
ये बातें हमें अबतक विचलित किये हुये है।
और शायद जुम्मन चाचा वाला सोच ही हम सभी का है जिस कारण यह समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है। जिस दिन सभीने इस विषय पर गम्भीरता से सोचना एवं पहल करना प्रारंभ कर दिया यथार्थ है इस समस्या का अंत हो जाना है। परन्तु काश………?
….पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Share this:
Author
पं.संजीव शुक्ल सचिन
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you