** हमारा रखवाला **

** हमारा रखवाला **
@दिनेश एल० “जैहिंद”

“जो सरजमीन की करे रखवाली
उसे रखवाला कहते हैं ।
जो अपनों के लिए मिट जाय
उसे दिलवाला कहते है ।।”

एक सिपाही वो है जो सीमा पर तनकर खड़ा है ।
एक रक्षक घर के अंदर हर झंझावात से लड़ा है ।।
एक पालक किसानी कर हमारा जीवन पाला है ।
एक ईश्वर ऊपर बैठा हम सब पे पहरा डाला है ।।

कर्मवीर, कर्मयोगी वो कार्यरत एक मतवाला है ।
निज खुशियों को तजकर पीया जिसने हाला है ।।
कर्तव्य पालक, कर्मठ कृषक बड़ा जिगरवाला है ।
कर्मवान सिपाही, पिता यह कृषक रखवाला है ।।

खुद की जान जोखिम में जो डालकर लड़ता है ।
खुद की परवा किए बिन जो हर काम करता है ।।
खुद प्यासे रहकर जग की खातिर जो मरता है ।
“जैहिंद” यहाँ उनको सबका रखवाला कहता है ।।

≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈
दिनेश एल० “जैहिंद”
15. 03. 2018

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share