** हमारा रखवाला **

** हमारा रखवाला **
@दिनेश एल० “जैहिंद”

“जो सरजमीन की करे रखवाली
उसे रखवाला कहते हैं ।
जो अपनों के लिए मिट जाय
उसे दिलवाला कहते है ।।”

एक सिपाही वो है जो सीमा पर तनकर खड़ा है ।
एक रक्षक घर के अंदर हर झंझावात से लड़ा है ।।
एक पालक किसानी कर हमारा जीवन पाला है ।
एक ईश्वर ऊपर बैठा हम सब पे पहरा डाला है ।।

कर्मवीर, कर्मयोगी वो कार्यरत एक मतवाला है ।
निज खुशियों को तजकर पीया जिसने हाला है ।।
कर्तव्य पालक, कर्मठ कृषक बड़ा जिगरवाला है ।
कर्मवान सिपाही, पिता यह कृषक रखवाला है ।।

खुद की जान जोखिम में जो डालकर लड़ता है ।
खुद की परवा किए बिन जो हर काम करता है ।।
खुद प्यासे रहकर जग की खातिर जो मरता है ।
“जैहिंद” यहाँ उनको सबका रखवाला कहता है ।।

≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈≈
दिनेश एल० “जैहिंद”
15. 03. 2018

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing