Skip to content

हमारे नेता—डी के निवातिया

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

February 21, 2017

विकास की डोर थाम ली है हमारे नेताओ ने ।
अब नये शमशान और कब्रिस्तान बनायेंगे।।
कही भूल न जाओ तुम लोग मजहब की बाते
याद रखना इंसानियत को इसी से मिटायेंगे ।।
!
!
!
डी के निवातिया

Share this:
Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended for you