.
Skip to content

हमारी बेटी

ALI AHAMAD

ALI AHAMAD "SANGAM"

गज़ल/गीतिका

January 14, 2017

हमारे मन को समझती है हमारी बेटी |
कभी भी जिद नहीं करती है हमारी बेटी ||

मैं जब भी देखता सफ्कत भरी निगाहों से |
मेरे गुनाहों को धो देती है हमारी बेटी ||

हमारे फ़िक्र में रहती हमारी माँ जैसे |
बुरी बाला से बचाती है हमारी बेटी ||

उसी के दम से है महफूज सल्तनत मेरी |
बददुवाओं से भी बचाती है हमारी बेटी ||

फ़िजा में जब भी उड़ाता हूँ भरोसा करके |
चाँद-सूरज सी चमकती है हमारी बेटी ||

अली अहमद”संगम”

Author
Recommended Posts
कविता- बेटी
बेटी है स्वर्ग धरा का , मानव का है नन्दनवन । ेटी अंधविश्वास का अन्त है , बेटी है नव परिवर्तन । बेटी आधुनिकता का... Read more
[[ सदा  रहती   यहाँ  माँ  बाप  की  बेटी दुलारी  है  ]]
सदा रहती यहाँ माँ बाप की बेटी दुलारी है बड़ी चिंता सताती है यहाँ बेटी कुँआरी है सजाकर ख्वाब को दिल में यहाँ मांगी दुआएं... Read more
बदलती सोच
बदल रही है सोच हमारी नया नज़रिया आया है … बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारा सबने मिलकर लगाया है रीति -रिवाज की बंदिश तोड़ उसे... Read more
परम्परा
परम्परा देखो जी , आज भी बेटी और बहू के लिए , हमारी परंपरायें भिन्न - भिन्न ही होती है । बेटी के लिए तो... Read more