गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है
तभी मर मरके दिल अपना जिया है

तिरी यादों को हम कितना भुलाए
भुलाके ख़ुदको ग़म इतना लिया है

रफ़ू कर कर के कपड़े तन छुपाया
किसी ने कब यूँ ज़ख्मों को सिया है

उदासी देख चेहरे पर सभी ने
ये पुछा ग़म तुझे किसने दिया है

नज़ारे और ही थे उन दिनों के
अभी तन्हाई है और बस दिया है

मिला जब साथ ये जज़्बाती मुझको
धड़कने फिर लगा अपना जिया है
जज़्बाती

2 Comments · 37 Views
Like
You may also like:
Loading...