Skip to content

=== हमारा कुटुम्ब ===

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

कविता

October 10, 2017

### हमारा कुटुम्ब
// दिनेश एल० “जैहिंद”

करूणामय है ईश्वर
करुणामयी ये माता ।।
करुणा से दिल भरा
कारुणिक जन्मदाता ।।

ममता लुटाए माता
ममता से भरी बहना ।।
भाई-प्रेम है कम नहीं
प्रेम कुटुंब का गहना ।।

चाची कहाँ कम रहती
चाचा भी करते दुलार ।।
फुआ का क्या कहना
मौसी भी करती प्यार ।।

दादा-दादी सबसे बड़े
उनका स्नेह दरिया समान ।।
बड़ी माँ का मत पूछो
उनका प्यार बड़ा महान ।।

बच्चों के प्यारे मौसा जी
मौसा जी करें खूब मान ।।
आव-भगत के लोभ में
बनें कभी-कभी मेहमान ।।

मामा जी तो मामा हैं
बच्चों के प्यारे मामा सारे ।।
मामा में है माँ की खुशी
मामा तो बड़े माँ को प्यारे ।।

घर के मान नाना-नानी
इनकी नहीं जग में सानी ।।
हम तो होते बड़े सुनकर
इनके मुँह से कथा-कहानी ।।

करुणा में तू बह जा भाई
सुन ले भाभी, काकी, माई ।।
करुण कहानी करुणा की
करुणा में ही खुशी समाई ।।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
19. 08. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
हमारा प्रेम एक नहीं प्रेम है लाखों हजार रखते प्रेम को दिल में दिखाते नहीं बाजार माता पिता भाई बहन सगे-संबंधी से प्यार जिन्हें हमारे... Read more
प्यारा परिवार
मेरा है प्यारा परिवार, सभी करते एक दूसरे से प्यार। परिवार की है बात निराली, जो जग में है सबसे प्यारी। परिवार ही है मुस्कराहट... Read more
माँ है जन्नत
माँ तो है जन्नत की नूर प्यार करना उसका उसूल। माँ ही है सारा मूल, माँ का प्यार है अपरंपार जो बच्चों से करती प्यार... Read more
" वेलेनटाइन डे " ------ प्रेम के मायने जानता नहीं, वैलेनटाइन डे में डूब रहा शहर। . माँ की ममता है प्रेम, पिता की फिक्र... Read more