कविता · Reading time: 1 minute

हमसे ना होगा !

हमसे ना होगा !
*************

इस तरह सहन करना
हमसे ना होगा ।
अनैतिकता का वहन करना
हमसे ना होगा ।।

दर-दर भटकना
हमसे ना होगा ।
पर जमके ज़हर पीना
भी हमसे ना होगा ।।

मूकदर्शक बने रहना
हमसे ना होगा ।
सम्मान गॅंवाकर भी
एकाग्रचित्त बने रहना
हमसे ना होगा ।।

सांसें रोके रहना
हमसे ना होगा ।
इर्द – गिर्द की
परिस्थितियों का
अवलोकन न करना
हमसे ना होगा ।।

मिल – जुलकर न रहना
हमसे ना होगा ।
पर भीड़ का शिकार होना
भी हमसे ना होगा ।।

कोई बेईमानी करना
हमसे ना होगा ।
पर बेईमानी होते देखना
भी हमसे ना होगा ।।

किसी को ज़ुदा करना
हमसे ना होगा ।
पर किसी से ज़ुदा होना
भी हमसे ना होगा ।।

अपारदर्शिता को सहना
हमसे ना होगा ।
पर पारदर्शिता की पहल
हमसे ही होगा ।
सदा हमसे ही होगा ।।

स्वरचित एवं मौलिक ।

अजित कुमार “कर्ण”
किशनगंज ( बिहार )
दिनांक : २२/०६/२०२१.
“””””””””””””””””””””””””””””
,🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

9 Likes · 2 Comments · 128 Views
Like
110 Posts · 11.4k Views
You may also like:
Loading...