31.5k Members 51.9k Posts

हमसफर ! आफताब था उसका

Aug 15, 2016 11:17 PM

“ज़ह्न तो लाजवाब था उसका
दिन ही शायद ख़राब था उसका

जबकि मेरा सवाल सीधा था
फ़िर भी उलटा जवाब था उसका

वो महज़ धूप का मुसाफिर था
हमसफर ! आफताब था उसका

आँख जैसे कोई समंदर हो
और लहजा शराब था उसका

मुतमईन था वो ज़ात से अपनी
खुद ही वो इंतेखाब था उसका

नासिर राव

1 Comment · 16 Views
Nasir Rao
Nasir Rao
27 Posts · 700 Views
You may also like: