Skip to content

” ————————————- हमको नहीं बहा ले ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गज़ल/गीतिका

August 16, 2017

समझ नहीं कुछ पाए तुझको , खत में क्या लिख डालें !
नाम नाम ही रट पाएं हैं , आगे क्या कह डालें !!

सोच में डूबे कुछ तय ना है , क्या है कदम उठाना !
खुशबू जैसे हवा में उड़ते , कैसे भाव सम्भालें !!

प्रश्नचिन्ह आंखों में उभरे , समाधान हम खोजें !
अनुत्तरित उत्तर को यों हम , किसके करें हवाले !!

तेरा आना रहा प्रतीक्षित , मन को बहलाता है !
अविरल बहे ,समय की धारा , हमको नहीं बहा ले !!

तुम भी हो चितचोर बड़े ही , हम भी कोई कम ना !
डोल रहे हैं अपनी मस्ती , जैसे दो मतवाले !!

कुन्दन कुन्दन प्यार हमारा , देखो दमक रहा है !
जिन नयनन में आन बसे हो , वे तो हैं कजियाले !!

चेहरे पड़ते लोग यहां पर , मुश्किल है बच पाना !
लाल लाल डोरे लज़्ज़ा के , सारी चुगली खा लें !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more