.
Skip to content

हनुमान कूद

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

कविता

February 19, 2017

दुश्मन को देखकर
भागने से पहले
हिरण एक लम्बी छलांग क्यों लगाती है ?
इसलिए, हाँ शायद इसलिए,
दुश्मन को आभास हो जाय
शावक ने उसे देख लिया है
और वह
व्यर्थ की दौड़ से बच जाय.
मनुज !
तुम क्यों छलांग लगा रहे हो ?
इसलिए, हाँ शायद इसलिए,
तुम्हे भारी ओहदा मिल जाय
एक ही छलांग में
और तुम्हे व्यर्थ मेहनत न करनी पड़े
पर यह हनुमान कूद होगी
और तुम खड़े हो जावोगे
बेरोजगारी की लम्बी कतार में.
शिखर पर पहुंचने के लिए
एक छलांग काफी नहीं
कदम- दर- कदम
बढ़ाते चलो
और एक दिन
शिखर पर होंगे
तुम्हारे कदम .

Author
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में 1000 से अधिक लेख, कहानियां, व्यंग्य, कविताएं आदि प्रकाशित। 'कर्फ्यू में शहर' काव्य संग्रह मित्र प्रकाशन, कोलकाता के सहयोग से प्रकाशित। सामान्य ज्ञान दिग्दर्शन, दिल्ली : सम्पूर्ण अध्ययन, वेस्ट बंगाल : एट ए ग्लांस जैसी... Read more
Recommended Posts
तुम समझते क्यों नही हो-स्वरचित
?तुम समझते क्यों नही हो? मेरी आँखों की हया कर देती है मेरी हाँ को बयां, में कह नही सकती कुछ , तुम समझते क्यों... Read more
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम
pratik jangid लेख Sep 22, 2016
आज जो यु मिले हो तुम , थोडा अपने से लगे हो तुम ये ख़ामोशी कुछ कहना चाह रही हो, जेसे फिर से गुम होना... Read more
बालकहानी - घमंडी सियार
घमंडी सियार ओमप्रकाश क्षत्रिय "प्रकाश" काननवन में एक सियार रहता था. उस का नाम था सेमलू. वह अपने साथियों में सब से तेज व चालाकी... Read more
7.कविता(गीतिका )
हाँ तुमने सच कहा मैं खो गयी हूँ , झील की नीरवता में ,जो देखी थी कभी तुम्हारी आँखों में । तुम्हारी गुनगुनाहट में ,जो... Read more