.
Skip to content

हद से बढ़ा

Sonika Mishra

Sonika Mishra

हाइकु

October 23, 2016

हाइकु :-

हद से बढ़ा !
वो सरहद पर !
आकर खड़ा !!

आज है भरा !
हमारे दुश्मन के !
पाप का घड़ा !!

है मिटाने का !
इस दिल में आज !
विश्वास बड़ा !!

बीज उसने !
दुश्मनी का था इस !
धरा पे गढ़ा !!

खाई कसम !
आज तुझे जहां से !
दे हम मिटा !!

– सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
चंद हाइकु
चंद हाइकु *अनिल शूर आज़ाद गांधी कहते सच अहिंसा श्रम मानव धर्म। बीता समय कल की हक़ीकत आज सपना। लघु पत्रिका अभाव ही अभाव पत्रिका... Read more
हाइकु :-- पेट की आग !!
!! पेट की आग !! हाइकु पेट की आग ! ठण्डा ना कर सका , ये ठण्डा माघ !! तपती भूख ! आज रात का... Read more
आसरा
जिंदगी के हर ज़हर को मय समझकर पी गया, दर्द जब हद से बढ़ा तो होंठ अपने सी गया, मौत कितनी बार मेरे पास आई... Read more
आज अरमानो को टूटते हुए देखा/मंदीप
आज अरमानो को टूटते हुए देखा, किसी को आज हाथ छोड़ते हुए देखा। कितनी भी वफाई कर लो वफ़ा से, आज बेवफ़ा को दूर जाते... Read more