Dec 15, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

हताश कोरोना

हताश कोरोना !

कोरोना हूँ।! हाँ मैँ कोरोना हूँ !
छोड़ा नहीं जग का कोई कोना हूँ।

ख़ूब हुड़दंग मचाया हर जगह।
जान लिया सब की बिलावजह।

क़यामत कह लोग मुझे है बुलाते।
मेरा नाम ले कर बच्चों को सुलाते।

डर से मेरे सब हो गये हैँ घरबन्द।
इबादत के भी हो गये हैं पाबन्द।

अब नहीं चल रहा है मेरा वो ज़ोर।
कड़ी तोड़ मुझे कर दिये कमज़ोर।

साँसें मेरी अब मेरा साथ छोड़ रही।
पुष्ट कमर देखो अब मेरा ये तोड़ रही।

सोच कर ये मुझे लगता है बहुत बुरा।
ख़्वाब तबाही का अब कैसे होगा पूरा?

मेरी आख़िरी साँसें हैं इंतेज़ार में तुम्हारी।
मुझे दूसरा इंसान चाहिये अब की बारी।

अब छोड़ भी दो अपना तुम ये घरवास।
आँखे बंद हो रही हैं, हो गया हूँ हताश।

© मो• एहतेशाम अहमद,
अण्डाल, पश्चिम बंगाल

Votes received: 43
11 Likes · 31 Comments · 322 Views
Copy link to share
Ahtesham Ahmad
3 Posts · 909 Views
Follow 3 Followers
मैं एक पत्रकार, लेखक और शिक्षक भी हूँ। मेरा शिक्षण क्षेत्र अंग्रेज़ी है। मैं एक... View full profile
You may also like: