*हकीक़त का सामना*

सामना हकीकत का जो करते हैं
फ़िर कहाँ खयालों में जिया करते हैं
सुहानी हो जाती है हर इक डगर
प्रभु खुद उनकी मदद किया करते हैं
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

14 Views
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित
You may also like: