Skip to content

=**= हंसी =**=

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

शेर

September 22, 2017

(1) ये दर्द कभी रोने से कम तो हुआ नहीं
तो आओ जरा दर्द में हंस कर ही देख लें।

********

(2) तन से न मन से और न धन से दो साथ तुम
बस एक बार आप जरा हंस कर देख लें।

********

(3) जब इस जहाँ में आए थे रो ही रहे थे हम
जाने से पहले इस जहाँ को हंस के देख लें।

********

—रंजना माथुर दिनांक 21/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना।
©

Share this:
Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended for you