.
Skip to content

*हंसते रहो हंसाते रहो,गीत ख़ुशी के गाते रहो *

Neelam Ji

Neelam Ji

गीत

June 14, 2017

हंसते रहो हंसाते रहो …
गीत ख़ुशी के गाते रहो …

सुख दुःख आने जाने हैं ।
जीने के ये बहाने हैं ।।
हर गम हार जाएगा ।
ख़ुशी से तू जो गाएगा ।।
हंसते रहो हंसाते रहो ।
गीत ख़ुशी के गाते रहो ।।

दर्द के बदले प्यार दो ।
खुशियाँ दर्द पर वार दो ।।
दुश्मन भी दिल हार जाएगा ।
ऐसा कोई जो मिल जाएगा ।।
हंसते रहो हंसाते रहो ।
गीत ख़ुशी के गाते रहो ।।

जीवन दो दिन का मेला है ।
मेले में सुख दुःख का ठेला है ।।
मिलता है बहुत कुछ ले लो तुम ।
हर गम को ख़ुशी से झेलो तुम ।।
हंसते रहो हंसाते रहो ।
गीत ख़ुशी के गाते रहो ।।

जीवन बड़ा ही छोटा है ।
फिर अफ़सोस होता है ।।
समय निकल जब जाएगा ।
हाथ नहीं कुछ आएगा ।।
हंसते रहो हंसाते रहो ।
गीत ख़ुशी के गाते रहो ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
गजल बन रहो
आरजू है यही तुम गजल बन रहो। चाँदनी रात में इक कँवल बन रहो।। चाँदनी पूर्णिमा की गगन में खिले। जिंदगी में सदा तुम धवल... Read more
होगी रहमत कभी.....(ग़ज़ल)
रदीफ-आते काफिया-रहो ग़ज़ल होगी रहमत कभी तो अर्जियां लगातें रहो। रात-दिन में खुशी-ग़म में तवज्ज़ो पाते रहो। बग़ैर उसकी रज़ा पत्ता भी हिल सकता नही।... Read more
ग़म ऐ दौर में भी सदा मुस्कुराते रहो
ग़म ऐ दौर में भी सदा मुस्कुराते रहो अँधेरा हो, जुगनुओ की तरह जगमागते रहो कांटो में रह कर भी सदा फूलों की तरह महकाते... Read more
वर्तमान में जीता हूँ मैं
जिदगी को जीओ तो वर्तमान में क्या रखा है भूत और भविष्य काल में भूत को याद करोगे तो पछताना पड़ेगा भविष्य किस ने देखा... Read more