स्वास्थ्य

स्वास्थ्य जीवन है।
स्वास्थ्य ही धन है।
स्वास्थ्य से परे
ना उन्नति,अमन है। 
       
स्वस्थ व्यक्ति से स्वस्थ समाज  ।
स्वस्थ समाज से विकसित राज ।
विकसित देश बनाये चलो मिलके, 
योग व संयम को अपनालें आज।

जीवन हो अपनी प्राकृतिक ।
आहार हो बिल्कुल संतुलित ।
व्यवहार में मधुरता हो मिश्रित ।
आचार-विचार हों अपनी संयमित।   
 
इस हेतु जुड़े आध्यात्म से
साहित्य,संगीत और सत्संग से ।
अपना स्वास्थ्य है अपने हाथ,
मिलना सभी से प्रसन्न और उमंग से।

आज भटकते देश के कर्णधार ।
कृत्रिम खान पान की हुई भरमार।     
भागमभाग तनाव जीवन में
शरीर बन चुका रोगों का भंडार ।

आओ  समझें अब असलियत  ।
ना कम होने पायें शारीरिक मेहनत ।
अच्छी स्वास्थ्य के बिना सब व्यर्थ ।
आज बनी सेहत सबसे बड़ी जरूरत ।
(रचयिता :- मनी भाई )

Like Comment 0
Views 265

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing