.
Skip to content

स्वरचित दोहे

Alka S.Lalit

Alka S.Lalit

दोहे

February 2, 2017

स्वरचित दोहे
*****
छोटे मुँह की बात भी,ऊँची राह सुझाय ।
सीख कहीं से भी मिले, सीखो ध्यान लगाय ।।

*****
औरन को अपना कहें , सुनते उनकी बात
अपनों की सुध है नहीं उनसे करते घात)

*****
ऐसा नाम कमाइए, मन के खोले द्धार
अपनों की सुध लीजिये, बढे प्रेम व्यव्हार

*****
खुशियों की खामोशियां , खा जाती सुख चैन।
यादें ना हो साथ तो ,दिन बीते ना रैन ।।

*****
Alka S.Lalit
copy right

Author
Alka S.Lalit
Recommended Posts
जन्माष्टमी दोहे : उत्कर्ष
कृष्णपक्ष कृष्णाष्टमी,कृष्ण रूप अवतार । हुए अवतरित सृष्टि पे,जग के पालनहार ।। जन्म हुआ था जेल में,भादो की थी रात । द्वारपाल सब सो गए,देख... Read more
उतरी जो मस्तिष्क में (दोहे)
उतरी जो मस्तिष्क में,... यादों की बरात ! आये झटपट हाथ में, कागज़ कलम दवात !! जात-पात मे भेद कर, खुद को कहें शरीफ !... Read more
दोहे की दो पंक्तियाँ
दोहे की दो पंक्तियाँ, .रखतीं हैं वह भाव । हो जाए पढ कर जिसे,पत्थर मे भी घाव!! दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार! फीकी... Read more
कुछ नये दोहे
1-- धन को काला कह रहे, देखो अपना रूप, लाइन वो भी लग रहे, कल तक जो थे भूप।। 2-- तुलना अब न कीजिए, ये... Read more