.
Skip to content

स्थानीय भाषा में लोकगीत

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गीत

February 4, 2017

चला चली पानी भरी आई…
मटकिया अप ने उठाई l

ई मटकी मां जान मेरी अटकी….
जाने कब फूटी जाई l…. चला चली …..

पनघट पर छेड़ नंद का लाला ….
बैठ कदम की डारी l …. चला चली..

ग्वालों की नियति यहां अटकी . ..
लुटी जाए ना जीवन की कमाई l…. चला चली ..

जो जल से भरी जाइ ए मटकी ……
भवसागर तरी जई l….. चला चली…..

जमुना में डूबत चटक गई मटकी ……
मोरी गागर सागर में समाई l…… चला चली..

संजय सिंह “सलील ”
प्रतापगढ़,उत्तर प्रदेश I

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
अवध
ना रही है सुबह-ए-बनारस ना ही रही है शाम-ए-अवध ना ही नवाबों की नफ़ासत ना ही तहज़ीब और ना ही नज़ाकत... रौनक-ए-अवध चली गई ईमान-ए-अवध चला... Read more
II  दिमागों में गुरूर देखा है.....  II
दिमागों में गुरूर देखा है l सलीके में शुरूर देखा है ll भरी दौलत से जेबे हैं जिनकी l उधारी में हुजूर देखा है ll... Read more
फलशफा -ए-इश्क
meenu yadav शेर Jan 25, 2017
1 हमने ज़िन्दगी से वफ़ा की , कबख़्त ज़िन्दगी बेवफा निकली l हमे बीच मजधार छोड़ , वो किसी और की हो चली l l... Read more
II तेरे बिन दुनिया ......II
तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl तेरी याद फिर... Read more