23.7k Members 50k Posts

स्त्री

स्त्री है ये
थक नहीं सकती है ये
रुक नहीं सकती है ये
आये जो कोई बाँधा तो
झुक नहीं सकती है ये
स्त्री है ये!!
जो हमेशा ताप दे
एक वो अंगार है
जो हमेशा प्रकाश दे
एक वो दीप है
आये जो कोई आँधी तो
बुझ नहीं सकती है ये
स्त्री है ये!!

24 Views
sudha Singh
sudha Singh
4 Posts · 52 Views
सुधा सिंह रिहन्द नगर, सोनभद्र संघर्षरत जीवन में कटू यथार्थ झेलते हुए मन जब कल्पनाओं...
You may also like: