Skip to content

स्त्री/ पुरुष

aparna thapliyal

aparna thapliyal

लघु कथा

September 5, 2017

रोहिणी के आफिस में आज वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन उसी के जिम्मे था ,पूरे दफ्तर में उसकी कार्यकुशलता के चर्चे थे,थक कर शरीर चूर था परन्तु बेस्ट वर्कर आफ द ईयर का अवार्ड और तारीफों के पुलों ने जैसे पंख दे दिये थे।
सबकी बधाइयाँ स्वीकारते थोड़ी देर भी हो गई थी,घर के दरवाजे में प्रवेश करते ही गृह स्वामी का स्वर सुनाई दिया आज भूखा मारने का इरादा है क्या!
ट्राफी को मेज पर रख पल्लू कमर में खोंस सीधी रसोई में अवतरित हो गई मनोनुकूल भोजन सबको खिला कर ही कपड़े बदलने का मौका मिला,मुँह हाथ धो कर सोचा कि सीधे नींद के आगोश मे समाहित हो जाए पर रोहिणी तो धर्म ग्रंथों मे लिखे श्लोक पर
हूबहू उतरती है

कार्येषु मन्त्री करणेषु दासी
भोज्येषु माता शयनेषु रम्भा
धर्मानुकूला क्षमया धरित्री।

सोचने को मजबूर हूँ कि क्या कोई ऐसा श्लोक पुरुषों के चरित्र निर्धारण के लिए भी किसी ग्रंथ में लिखा गया है!!!!!!!!!!

अपर्णा थपलियाल “रानू”

Share this:
Author

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you