सौदा जो सिर्फ देह का

दिल से निकल के बात निगाहों में आ गयी
जैसे हसीना यार की बाहों में आ गयी।१।

धड़कन को मेरी आपने रुसवा किया हुजूर
कैसे हँसी, न पूछो कराहों में आ गयी।२।

रुतबा है आपका कि सितम रहमतों से हैं
हमने दुआ भी की तो वो आहों में आ गयी।३।
कैसा कठिन सफर था मेरा सोचिये जरा
हो कर परेशाँ धूप भी छाहों में आ गयी।४।

सौदा जो सिर्फ देह का परवान चढ़ गया
सच्ची थी आशिकी वो गुनाहों में आ गयी।५।

नभ से गिरे तो.. वाली कहावत का सार ये
कैसे कहूँ कि आज पनाहों में आ गयी।६।

ये सब है वक्त और हवाओं की साजिशें
यूँ ही कली न टूट के राहों में आ गयी।७।

लायी है उसको यार गरज खींच कर यहाँ
ये मत समझ कनीज सलाहों में आ गयी।८।

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing