Skip to content

” ————————————————– सोच हो गई कैसी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

September 19, 2017

यहां विदेशी शरण पा रहे इनके कई हितैषी !
देश की चिंता यहां किसे है , मन भाये परदेसी !!

कहीं धर्म आगे आता है , अपनेपन का कोना !
संविधान का लिए हवाला , ममता उमड़ी कैसी !!

कानूनों को रखा ताक है , तीन तलाक न छूटे !
यहां धज्जियां उड़ा रहे है , संविधान की ऐसी !!

दलगत राजनीति सुर साधे, अवसर हाथ न जाये !
नीयत लगे बदलना मुश्किल , सच वैसी की वैसी !!

नहीं नियंत्रण जनसंख्या पर , उसका भान कहाँ है !
आतंक जहां भाईचारा , सोच हो गई कैसी !!

पाकिस्तानी मंसूबे है , सबके सामने जाहिर !
आंख मूंद कर बैठे हैं हम , अपनी करनी कैसी !!

अपना देश नहीं स्वीकारे , दुनिया जिन्हें नकारे !
उनके लिये सहानुभूति की , दरिया बहती ऐसी !!

राजनीति है बड़ी विषैली, कौन दंत अब तोड़े!
न्याय प्रक्रिया हमें चाहिये , मृत्युजंय के जैसी !!

बृज व्यास

Share this:
Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended for you