दोहे · Reading time: 1 minute

सोचो करो विचार

नही चाहते आप गर,..करे आपसे क्लेश!
दुर्जन को करिये नमन,सबसे प्रथम रमेश!

होना मत जल्दी बडा,सोचो करो विचार !
देती बच्चा गोद से, माँ भी बडा़ उतार! !

छूने से जिनके फकत,हो जाता यदि खून !
नोच दीजिए हाथ के,…वे कातिल ऩाखून !!
रमेश शर्मा.

1 Like · 57 Views
Like
Author
512 Posts · 59.6k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! ! रमेश शर्मा Books: दोहा दर्पण -साझा संकलन दोहा संगम -साझा संकलन दोहा प्रसंग -साझा संकलन…
You may also like:
Loading...