सेहरा — शेरो शायरी

लो सज गए वो फिर से पहनकर सेहरा भी,
अरे कोई तो जाकर उन्हें हमारी याद दिलाये !
हम ख़ाक में मिल गए उनके एक इशारे पर
और वो है के कब्र पे हमारी फिर सेज सजाये !!
!
!
!
डी के निवातिया

Like Comment 0
Views 360

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share