Skip to content

सेना पे राजनीती

Pooja Singh

Pooja Singh

कविता

August 5, 2017

“देश है महान अपना ,शौर्यता की खान है ,
इस धरा पे चमकते सूर्य के सामान है !
हिमालय जिसका मुकुट और हिन्द जिसका नाम है ,
विश्व के पटल पे जो आज भी शोभायमान है !
गर्व है की वो हमारी जन्मभूमि है ,
ऐसे भारत भूमि का फिर हाल क्यों बेहाल है ?
बदलाव सबको चाहिए पर साथ कौन कौन है ?
विकास को यु रौंदने खड़े कितने गद्दार हैं !
अपने कंधो पर उठाता देश की जो नींव है ,
उसे गिराने के लिए भी गद्दार तल्लीन हैं !
नोट उनकी आत्मा और वोट उनकी सांस है ,
धर्म के नाम पे फ़ैलाते हाहाकार हैं !
जीतते चुनाव हैं तो जनता का आशीर्वाद है ,
यदि हार गए चुनाव तो वोटिंग मशीन का झोल है
सैनिक का अपमान देख तो तुम्हारे मुँह बंद हैं ,
पर देशद्रोहियों के लिए तुम्हारे दिल में दर्द है !
ये कैसी विडम्बना और कैसी राजनीती है ?
जो सैनिको के रक्त से ही सनी हुई है !
कुछ तो शर्म करके तुम एक बार सोच लो !
बिना सैनिको के इस देश का क्या हश्र हो ?
या तो विरोधियों को तुम करारा जवाब दो
अन्यथा तुम खुद जाके सीमा पर तैनात हो ”

(पूजा सिंह )

Author
Pooja Singh
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .
Recommended Posts
वो ही देश पे शहीद हुआ
नमन शहीदों और उनके परिवारों को ... कोई नोटों पे शहीद हुआ कोई वोटों पे शहीद हुआ जिसका था ईमान सच्चा वो ही देश पे... Read more
*#देश के जवानों#*
*#देश के जवानों#* दुश्मनो को अंदर आने का रास्ते,, खुद गद्दार देश के बता रहे,, खुद ही अपने वतन को वो बर्बाद करते यहा,, साजिशों... Read more
मोदी जी
देखो कैसे बदल रहा है भारत, लेके अपना कमाल आया है अपनी माँ की सेवा करने, देखो धरती का लाल आया है। देश की संसद... Read more
जिसको पूजता संसार है
जिसको पूजता संसार है बेशक दया का भण्डार है आज फिर आपसे मिलने को मेरा ये दिल बेकरार है रस्सी से बाँध दीजे उसे जो... Read more