.
Skip to content

सेना का गौरव…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

April 16, 2017

?घाटी की विषम परिस्थिति तथा सैनिकों के अपमान का विरोध करती रचना।?

????????????????????

भारत देश महान हमारा हर कोई यहाँ स्वतन्त्र हुआ।
लूला-लंगड़ा अंधा-बहरा ये सरकारी तन्त्र हुआ।

छला गया सेना का गौरव सरेआम जब घाटी में।
शस्त्र हाथ में फिर भी सैनिक मूक-बधिर परतन्त्र हुआ।

जिन हराम के पिल्लों को सेना ने वहां बचाया है।
आज उन्हीं कश्मीरी कुत्तों ने कोहराम मचाया है।

राजद्रोह भी देशद्रोह भी धारा ही उल्टी मोड़ी।
भारत माँ पर वार किया है बेशर्मी की हद तोड़ी।

कैसे सहन करेगा भारत इन काली करतूतों को।
सबक सिखाना हुआ जरूरी *पाक परस्ती जूतों को*।

सेना है अभिमान हमारा ये सेना पर वार करें।
*गो इंडिया* के लगा के नारे सैनिक पर प्रहार करें।

भारत में कश्मीर मगर लगता है देश विराना क्यों?
इन दल्लों को भारत से मिलता है खाना-दाना क्यों?

घाव हुआ नासूर करो कुछ वरना फिर पछताओगे!!
धीरज टूट गया सेना का कैसे देश बचाओगे?

आस्तीन के साँपों को मर्यादा में लाना ही होगा!!
हिन्द भूमि का वंदन करना इन्हें सिखाना ही होगा!!

इन्हें पकड़कर स्वतन्त्रता की परिभाषा बतलाओ अब!
सेना का सम्मान पुष्ट हो ऐसी रीत चलाओ अब !

कहते हो कश्मीर हमारा पर अधिकार नहीं देते!!
देशद्रोही की छाती बींधे वो हथियार नहीं देते!!

सत्ताधारी करें कभी तो अनुभव उनके दर्दों का।
तुष्टिकरण की नीति त्यागें मोह छोड़ें हमदर्दों का।

एक बार घाटी सेना के हाथ सौंपकर के देखो!!
कितने कुत्ते बेनक़ाब हों गिनती तो करके देखो!!

*तेज* स्वरों में *जय हिन्द* गूंजे फिजां तिरंगी कर दें।
पागल कुत्तों की छाती में जी भर लोहा भर दें।

इतने छेद करेंगे कि अनुमान नहीं होगा!!!
घाटी में पैदा फिर कोई शैतान नहीं होगा!!

देशद्रोहियों का घाटी में नाम निशान नहीं होगा!!
कश्मीर तो होगा लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा!!

??तेज ~15/4/17~ ✍??

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
अमर रहे गौरव सेना का
अमर रहे गौरव सेना का नित सम्मान बढ़ाती जाए । गर्व से शीश उठा सकें हम विजय ध्वज फहराती जाए । जाकर दुश्मन की धरती... Read more
प्रत्युत्तर दो काश्मीर में और सेना को फिर शोहरत दो..
जब - जब सेना पर लाचारी का प्रहार पड़ा है... तब - तब क़लम तूने सेना का सम्मान गढ़ा है... राजनीति तो अपने मद में... Read more
*****
***** काश्मीर की कली की घाटी ***** अलगाववादियों के सँग में, जो आतँकी नृतन करती है, ''काश्मीर की कली'' की घाटी, अब देखो क्रन्दन करती... Read more
भारतीय सेना के सम्मान में दो मुक्तक
माँ से बढ़कर अपनी धरती हमको प्यारी मोदीजी. व्यर्थ नहीं हो एक शहादत हम पर भारी मोदीजी. सैनिक विवश नहीं होंगे अब आतंकी मिट जायेगें,... Read more