.
Skip to content

सृष्टि की सृजनहार बेटियाँ

manju gupta

manju gupta

कविता

January 25, 2017

अब दब नहीं सकती आधी आबादी की ये बेटियाँ ,
जो दबाएँ इन्हें बन जाएँगी संहार की चिंगारियाँ ,
नहीं हैं अब भोग , विलास , वासना की ये कठपुतलियाँ ,
हैं ये प्रतिभाओं के आसमान पर चमकती बिजलियाँ.

अभावों की परिधियों को लाँघ के रुतवा है दिखा रहीं ,
गीता – बबिता , सिंधु – दीपा की दीप -शिखा जगमगा रही ,
देश की बेटियाँ अवनि , भावना , मोहना दुर्गा समान ,
हौंसलों की उड़ान से थामती वायुसेना की कमान .

नवदुर्गा , सरस्वती , लक्ष्मी सम पूजे देश – संसार ,
न समझो बेटियों को अब अबला , कमजोर देश – परिवार ,
वक्त आने पर बनती लक्ष्मीबाई की शौर्य तलवार ,
स्वामीभक्ति में बन जाती हैं ये पन्ना का त्याग – प्यार .

मिलता अब ” बेटी बचाओ – पढ़ाओ ” के संस्कारों से ,
उपहारों में ” राज श्री ” का मान – सम्मान सरकार से .
सिरमौर करती सभ्यता – संस्कृति को जगत में शान से ,
जल , थल , नभ में कमा रहीं नाम कामयाबी की ध्वजा से .

मैके को महका के बेटियाँ महकाती हैं ससुराल ,
बहन , बेटी , पत्नी , माँ बन फर्ज निभाती सालोसाल ,
कुल निशानी को कोख में क़त्ल कर न बना कब्रिस्तान ,
दो वंशों को जोड़कर ” मंजू ” सृजन करती है संतान .
रचनाकार – मंजू गुप्ता

Author
manju gupta
मैं लेखिका , कवयित्री , सेवा निवृत हिन्दी शिक्षिका हूँ , वाशी , नवी मुंबई में रहती हूँ . ऋषिकेश , उत्तराखंड मेरा जन्म स्थान है . पढ़ना - पढ़ाना मेरा शौक है . मंचों , आकाशवाणी , दूरदर्शन पर... Read more
Recommended Posts
बेटियाँ
बेटियाँ हर कोख कौम देश का अभिमान बेटियाँ कर रही हैं राष्ट्र का निर्मान बेटियाँ प्रकृति प्रदत्त प्रेम की संतान बेटियाँ प्रभू ने खुद रचा... Read more
चोटियों को मापती हैं बेटियाँ अब गगन
2122 2122 212 चोटियों को मापती हैं बेटियाँ अब गगन बन बोलती हैं बेटियाँ।1 हो रहे रोशन अभी घर देख तो रूढ़ियों को तोड़तीं है... Read more
बेटियाँ
पास रहती हमेशा नहीं बेटियाँ पर न माँ बाप को भूलतीं बेटियाँ कहते बेटों को अपना सहारा मगर दिल के गम अपने सँग बाँटतीं बेटियाँ... Read more
कविता
"बेटियाँ" अब परिचय की मोहताज नही बेटियाँ आज माँ पिता की सरताज हैं बेटियाँ । गंगा जैसी निर्मल,अग्नि सी निश्च्छल शीतल समीर की झोंका हैं... Read more