Skip to content

सृजना की महत्ता

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार

कविता

November 21, 2017

सृजना की महत्ता
———————————-
क्यों हुआ है खून का पानी ?
करते रहते सब मनमानी….
जोशीले शब्दों के संग में
क्यों रक्त अब बहता नहीं ??
लुट जाती नारी की अस्मत !
लुट रहे संस्कार हैं…………
नर ही अब नारी का दुश्मन ,
क्यों मानव अब कहता नहीं ??
कभी दामिनी ! कभी निर्भया !
नित होती लहूलुहान हैं……..
बाजारों के बीच लुट रही !
क्यों रक्षक अब रहता नहीं ??
भोर हुए जब सहमी रहती ,
तब रातों का क्या कहना है !
कहाँ दब गये सद्गुण सारे ?
क्यों निर्झर अब बहता नहीं ??
नजरें होती गिद्धों के सम ,
नारी-मांस नोचने को…..
इन गिद्धों का वध करने को
क्यों ईश्वर अब कहता नहीं ??
चीख रही है नारी अब तो
नगर-नगर चौराहों पर….
पद्मिनी भी बनी निशाना !
क्यों सृजना की महत्ता नहीं ??
———————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार दीप

Share this:
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended for you