सूर घनाक्षरी

पत्थर पहाड़ पत्ते, तपाये तपन तपें, आग आज अजगर, सा मुख फैलाये
आदमी आकुल अब, पशु- पक्षी दुखी सब, बुझाए बुझे न बुरे, हालात बनाये
पंख पसारे पवन, और उसारे अगन, अभिमानी मेघ बन, देखो इतराये
वन विभाग है कित, चिंता से चिंतित चित,यत्न युक्ति करो कोई, आग बुझ जाये

74 Views
poet and story writer
You may also like: