23.7k Members 49.9k Posts

सूर घनाक्षरी

पत्थर पहाड़ पत्ते, तपाये तपन तपें, आग आज अजगर, सा मुख फैलाये
आदमी आकुल अब, पशु- पक्षी दुखी सब, बुझाए बुझे न बुरे, हालात बनाये
पंख पसारे पवन, और उसारे अगन, अभिमानी मेघ बन, देखो इतराये
वन विभाग है कित, चिंता से चिंतित चित,यत्न युक्ति करो कोई, आग बुझ जाये

Like Comment 0
Views 72

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Sharda Madra
Sharda Madra
56 Posts · 1.3k Views
poet and story writer