सूर्य को आंखें दिखाना आ गया

*गीतिका*
सूर्य को आंखें दिखाना आ गया।
आंधियों में पग जमाना आ गया।

फौजियों के हौसले को देखकर।
मुश्किलों में पग बढाना आ गया।

मृत्यु के मुख धैर्य उनका देखकर।
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया।

शहरदों के बीच खुशियाँ ढूंढ कर।
बाजुओं में नभ समाना आ गया।

दुश्मनी से बाज जो आते नहीं।
शस्त्र भी हमको उठाना आ गया।

कोयले में ढूँढने हमको चमक।
आग में उसको जलाना आ गया।

शौर्य के पन्ने पुराने कुछ पलट।
शत्रुओं को अब डराना आ गया।

लौह को बस लौह ने काटा समझ।
मृदु करों को शर चलाना आ गया।

कृष्ण का उपदेश कर करना समर।
धर्म ‘इषुप्रिय’ को निभाना आ गया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 39 Views
Copy link to share
कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर) पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229 मो-08827040078 View full profile
You may also like: