कविता · Reading time: 1 minute

सूरज काका

सुबह सवेरे सूरज काका
नित मुस्काते तुम आते हो
अपनी सोने की किरणों को
संग सदा ही ले आते हो ।

घड़ी भर भी विलंब न करते
नियत समय पर आ जाते हो
आकर अपना रौब जमाते
सारे जग में छा जाते हो ।

कभी सताते तेज धूप से
कभी नजर तनिक न आते हो
कभी तपाते तपन से अपनी
कभी तन को सेंक लगाते हो ।

सूरज काका रूठ न जाना
रोज धरा पर आते रहना
अपने उजाले से हम सबका
जीवन उज्ज्वल करते रहना ।

डॉ रीता
एफ – 11 , फेज़ – 6
आया नगर , नई दिल्ली – 47

74 Views
Like
Author
95 Posts · 19.3k Views
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047…
You may also like:
Loading...