सूना-सूना है अब गाँव

कोयल हो गई गुम
कौआ नहीं करता काँव
आँगन में उदासी छाई
सूना-सूना है अब गाँव

सूख गई है नदी
टूटी पड़ी है नाव
पनघट भी वीरान है
नहीं कुदरत की ताव

न शाम मस्तानी है
उजड़ गया अमवा गाँव
राहगीर ढूंढ़ते फिरते है
बरगद-पीपल की छाँव

न बरगद की झूला
न नीम की छाँव
रंग बसंत की यहाँ
नहीं पड़ता अब पड़ाव

बगीचे में गुलजार नहीं
न पंछियो की शोर गुल
काली घटा सावन बरखा
गाँव की राह गई भूल

16 Views
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing -...
You may also like: