सूखे पत्तों पर

सूखे पत्तों की अभी सरसराहट बाकि है।
तुम्हारे आने की यूंही आहट बाकि है।।।
कामनी गुप्ता ***

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share