23.7k Members 49.8k Posts

सूखा पत्ता

Jul 1, 2017

वो भी कभी बहारों का
हुआ करता था हिस्सा
गिरा पड़ा था सड़क पर
जो सूखा निर्जीव पत्ता ।

प्रकृति ने साथ दिया नही
जडों ने पोषण किया नही
चंद दिनो मे मुरझा गया
हरा भरा था जो सजीव पत्ता ।

बड़ा हुआ था जिस शाख पर
उसी ने दामन छुड़ा लिया
पतझड़ का समय हुआ
गिराया डाली ने कमजोर वो पत्ता ।

हवा ने मौका देखा
दूर उड़ा के उसे फेंक दिया
विलीन हो गया धुंए मे
जब जलाया किसी ने वो बेबस पत्ता ।।

राज विग

Like Comment 0
Views 113

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
Raj Vig
Raj Vig
Delhi
113 Posts · 6.8k Views
Working as an officer in a PSU. vigjeeva@hotmail.com