सुर ! इक साज का मोह ...........

मै तेरी मौहब्बत के ख़याल से किनारा तो कर लू
मगर तेरी हर अदा की शरारत छेड़ती है मुझे ।।
सागर सैनी
© copyright

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share