Jul 15, 2016 · शेर

सुर ! इक साज का मोह ...........

मै तेरी मौहब्बत के ख़याल से किनारा तो कर लू
मगर तेरी हर अदा की शरारत छेड़ती है मुझे ।।
सागर सैनी
© copyright

1 Comment · 12 Views
An actor, a poet, MA in History and MA in drama. I love reading.
You may also like: