Skip to content

सुमिरन

sudha bhardwaj

sudha bhardwaj

लघु कथा

January 19, 2017

सुमिरन
————-

सागर किनारे खड़ा मैं इससे पहले की कुछ संभल पाता..
अचानक से लगभग बीस ….पच्चीस फुट ऊंची एक लहर ने मुझे अपने आगोश में ले लिया और मैं ना चाहते हुए भी लहरो के साथ बहता चला जा रहा था बचने के लिए काफी हाथ पॉव मारता रहा।थक गया और ड़ूबने लगा मैं बहुत बुरी तरह छटपटा रहा था…..वहॉ आस-पास कोई मेरी आवाज सुनने वाला कोई नही था। मैं समझ गया था कि मैं मौत के आगोश में हूॅ परन्तु मैंने साहस नही त्यागा चारो तरफ पानी ही पानी देखकर मेरी ज़बान पर बार-२उस ईश्वर का नाम आ ..रहा था। मैं बहुत देर छटपटाया परन्तु उसके बाद मैं ऊपर वाले से रहम की भीख मागी और फिर मैं नही जानता उस…… अथाह सागर में मुझे कौन….. बचाने आया क्योकि जब मेरी ऑख खुली तो मैं किनारे पर था तेज धूप से मेरी ऑखें चुंधियॉ सी गयी थी मैने होश आने पर एक बात का एहसास अवश्य हुआ…उस दिन मॉ की बात याद आयी वो हमेशा कहा करती थी अरे! भगवान हमेशा हमारे पास हमारे साथ ही रहते है। बस साहस के साथ लड़ते रहो। जब हमारे बस में कुछ…. नही रहता तो वो तुरन्त आकर हमारी मदद करते है।मैं हमेशा यही सोचता था कि माँ मेरा दिल बहलाने के लिए..
एेसी बातें करती रहती है। और ईश्वर तो सिर्फ मूर्तियों में रहते है। मैं एेसा कहकर माँ की बात
कभी ध्यान से नही सुनता था। लेकिन उस हादसे ने मुझे उस अदृश्य शक्ति को मानने लगा। जिसने आकर मुझे मौत के मुहँ में जाने से रोक लिया।और मैं आज जीता जागता तुम्हारे सामने खड़ा हूँ। सच बताऊं उस वक्त अपने पूरे जीवन में मैंने सच्चे मन से भगवान को याद किया था।और वो आये और मुझे बचाया यह भी सत्य है।
परन्तु आज मेरा बेटा… ठीक मेरी तरह नही पापा ! आपको किसी आदमी ने ही
बचाया होगा।मैने उसे बताया अरे बेटा ! अगर आदमी ने भी बचाया तो वो मानव रूप में मुझे बचाने आये।
वो हमें हर विपदा से…. निकालते है परन्तु हम ही ऐसे है जो केवल उन्हे विपत्ति के वक्त ही याद करते है…..
ठीक कहते हो पापा….. हमारी हिन्दी टीचर ने भी हमे
पढ़ाया है।
दु:ख में सुमिरन सब करे सुख में करे न कोय।
जो सुख में सुमिरन करे दु:ख काहे को होय।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Share this:
Author
sudha bhardwaj

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

आज ही अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साथ ही आपकी पुस्तक ई-बुक फॉर्मेट में Amazon Kindle एवं Google Play Store पर भी उपलब्ध होगी

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

सीमित समय के लिए ब्रोंज एवं सिल्वर पब्लिशिंग प्लान्स पर 20% डिस्काउंट (यह ऑफर सिर्फ 31 जनवरी, 2018 तक)

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you